बड़ी बवासीर का इलाज { Piles Ka Ilaj In Hindi }

September 15, 2019 0 Comments

बवासीर { पाइल्स  } का नाम आते ही वह  असहनीय  दर्द भी याद आ जाता है जो हम सहन नहीं कर पाते और किसी को बताने में भी झिझक महसूस होती है |  इस रोग में गंभीर कब्ज हो जाती है और मलद्वार में घाव, जलन ,मोटी फुंसी जिसमें चुभन होती है कई बार तो इस घाव से खून भी निकलने लगता है |  लगातार खूनी बवासीर रहना रोगी को कमजोर बना देता है ऐसी गंभीर समस्या का तुरंत सही समय पर इलाज कराना चाहिए नहीं तो यह तकलीफ और ज्यादा असहनीय बन जाती है |

बड़ी बवासीर का इलाज { Piles Ka Ilaj In Hindi }
source by google

बवासीर दो तरह की होती है खूनी बवासीर और बादी बवासीर |  खूनी बवासीर में खून आता है दर्द नहीं होता और बादी बवासीर  भयंकर कब्ज के कारण होती है या फिर कब्ज  दूर करने वाली ज्यादा दवाइयों का इस्तेमाल करने से होती हैं  इसमें दर्द होता है टॉयलेट जाते समय ज्यादा जोर लगाने पर ही खून आता है अन्यथा नहीं आता है |

बवासीर में इस्तेमाल करें किशमिश | Use raisins in piles 

बड़ी बवासीर का इलाज { Piles Ka Ilaj In Hindi }
source by google
हम सभी जानते हैं कि किशमिश अंगूर से बनती है और अंगूर पाचन तंत्र के लिए बहुत फायदेमंद होता है यह बाहर निकाले हुए मस्सों में तुरंत आराम दिलाता है किशमिश का पानी लेते ही हाथों-हाथ बवासीर में आराम आ जाता है |

आठ से 10 किशमिश को रात में एक गिलास पानी में भिगो दें सुबह तक यह बिल्कुल फुल कर मोटी हो जाएंगी, अब चम्मच या ग्राइंडर की सहायता से किशमिश को पानी के अंदर ही फेंट लें और पी जाए ,यह पानी सुबह खाली पेट ले बवासीर में तुरंत आराम मिलेगा | जिनको खूनी बवासीर लंबे समय से हो वह भी इस नुस्खे को अपनाएं, 1 हफ्ते लगातार इस्तेमाल करने से पुरानी से पुरानी खूनी बवासीर ठीक हो जाएगी,  खून गिरना और दर्द चुभन में भी आराम मिलेगा |

बवासीर में करे पपीते का सेवन | Take papaya in piles

बड़ी बवासीर का इलाज { Piles Ka Ilaj In Hindi }
source by google
बवासीर का मुख्य कारण कब्ज है बवासीर में पपीते का सेवन करने से कब्ज की शिकायत नहीं होती और पेट खुलकर साफ हो जाता है |  जिन लोगों को टॉयलेट जाते समय जोर लगाना पड़ता है और टॉयलेट जाने  के बाद भी यह लगता है कि पेट साफ नहीं हुआ है तो अपने दैनिक डाइट में पपीते को शामिल करें | 

बवासीर में दूध का सेवन | Milk intake in piles

बड़ी बवासीर का इलाज { Piles Ka Ilaj In Hindi }
source by google
गर्म दूध पीने से नींद अच्छी आती है दूसरा आंतों में  चिपका अमल साफ हो जाता है टॉयलेट जाते समय जोर नहीं लगाना पड़ता |  बवासीर के दौरान होने वाले दर्द से राहत  दिलाता है | 

गुलकंद और दूध | Gulkand and milk

बड़ी बवासीर का इलाज { Piles Ka Ilaj In Hindi }
source by google

दो चम्मच गुलकंद को रात के खाने के बाद ले ,गुलकंद खाकर ऊपर से हल्का गुनगुना दूध पी ले |  जो लोग गुलकंद के साथ दूध नहीं पी सकते हैं वह हल्के गर्म पानी के साथ भी इसे ले सकते हैं |  गुलकंद और दूध लेने से खूनी बवासीर में खून गिरना बंद हो जाता है | गर्भवती महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान बवासीर के समस्या हो जाती है वह भी इस नुस्खे को इस्तेमाल कर सकती हैं

बवासीर के रोगी उपवास न रखें | Do not fast for piles

जिन माता बहनों या पुरुषों को छोटी या बड़ी जैसी भी बवासीर है वह उपवास करने से बचें क्योंकि उपवास के दौरान भूखे रहने से पेट में अमल जमकर ठोस रूप ले लेता है जिससे कब्ज हो जाती है और अगले दिन टॉयलेट के दौरान आपको जोर लगाना पड़ता है जिससे बवासीर से खून गिरना, मस्से का बाहर आना, जलन या चुभन का बढ़ जाना आदि आम परेशानी हो जाती है |

हरी सब्जियों का सेवन | Green vegetables intake

बड़ी बवासीर का इलाज { Piles Ka Ilaj In Hindi }
source by google

बवासीर के रोगी हरी सब्जियों जैसे पालक., मेथी, बथुआ ,साग को अपने दैनिक डाइट में जरूर शामिल करें क्योंकि इसमें पोषक तत्व और एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो हमारी पाचन तंत्र को सुधारते हैं और बवासीर में काफी हद तक राहत पहुंचाते हैं  | हरी सब्जियों की तासीर ठंडक देने वाली होती है |

बवासीर के रोगी तेज मसालेदार खाना जैसे हरी मिर्ची, लाल मिर्ची या फास्टफूड को खाना बिल्कुल बंद कर दें क्योंकि यह बवासीर के जखम को सक्रिय कर देती हैं और उनकी तकलीफ को और ज्यादा बढ़ा सकते हैं | रोगी को खाने में दलिया, दही चावल, मूंग दाल की खिचड़ी और देसी घी का सेवन जरूर करवाना चाहिए |

बवासीर के रोगी लिक्विड चीजें ज्यादा ले | Hemorrhoids patients take more liquid things

बड़ी बवासीर का इलाज { Piles Ka Ilaj In Hindi }
source by google

इस रोग में 2 से 3 लीटर पानी जरूर पीना चाहिए , लिक्विड चीजें जैसे दही, लस्सी,  सूप, नींबू पानी, जूस, मौसमी फल भरपूर मात्रा में खाने चाहिए |  लस्सी पीने से बवासीर में होने वाली जलन कम होती है और शरीर को ठंडक और ताजगी मिलती है |  एक गिलास लस्सी में भुना हुआ जीरा और काला नमक डालकर दिन में दो बार पिए, ऐसा हर रोज करने से मस्से धीरे धीरे ठीक हो जाएंगे, यह आपके पाचन क्रिया को भी ठीक रखेगी |

मूली खाएं | Eat radish

बड़ी बवासीर का इलाज { Piles Ka Ilaj In Hindi }
source by google

बवासीर के रोगियों को कच्ची मूली का सेवन करवाना चाहिए यह आपकी पाचन क्रिया को तंदुरुस्त करती है और मल को नरम करती है |  मूली को घिसकर उसमें शहद मिलाकर खाएं, इसे आप दिन में दो से तीन बार खा सकते हैं |  मूली में घुलनशील फाइबर पाए जाते हैं जो बवासीर के रोगियों के लिए फायदेमंद है |

इसबगोल का इस्तेमाल | Use of isabgol

बड़ी बवासीर का इलाज { Piles Ka Ilaj In Hindi }
source by google

इसबगोल फाइबर का बहुत अच्छा स्रोत है  कब्ज, एसिडिटी, पेट संबंधी गड़बड़ियों में फाइबर युक्त चीजें खाने की सलाह दी जाती है इसबगोल खाने से  दर्द, जलन और मल त्याग के समय दर्द कम होता है यह पेट को भी साफ रखती है |  इसबगोल को दिन में दही के साथ और रात को पानी के साथ ले |

अनार के छिलके का सेवन | Intake of pomegranate peel

अनार के छिलके का उपयोग हमेशा से देसी दवाइयों और सर्दी खांसी में होता आया है लेकिन इसका उपयोग बवासीर में भी होता है अनार के छिलके का चूर्ण नागकेसर के साथ मिलाकर बवासीर के रोगी को दिया जाए तो खूनी बवासीर से छुटकारा मिलता है |

नोट

बड़ी बवासीर का समय से इलाज करवाएं नहीं तो यह समस्या गंभीर रूप ले सकती है | ऊपर दिए गए गए घरेलू नुस्खे सिर्फ बवासीर में राहत के लिए है इसमें कोई लापरवाही ना बरतें अगर आराम ना आए तो तुरंत डॉक्टर से अपना उचित इलाज करवाएं |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *