करोनो वायरस है क्या | यह कैसे फैलता है, इसके लक्षण क्या है | पूरी जानकारी

करोनो वायरस एक संक्रमित रोग है जो एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति को छूने से भी फैल सकता है|  करोनो  वायरस के कहर से चीन ही नहीं बल्कि भारत भी जूझ रहा है| भारत में अब तक तीन चार व्यक्ति इसकी चपेट में आ चुके हैं|

चीन में करोनो वायरस से पीड़ित  व्यक्तियों की मौत की संख्या बढ़ती जा रही है| स्वास्थ्य संगठन के अधिकारी इसे रोकने के लिए अपने जी-जान से कोशिश कर रहे हैं लेकिन अभी तक कोई सफल इलाज सामने नहीं आया है|

चीन से बाहर देश भी जैसे अमेरिका, फ्रांस, जर्मनी ,थाईलैंड, जापान आदि में भी इसके लक्षण देखने को मिले हैं| बाहर के देशों ने तो अपने नागरिकों को चीन ना जाने की सलाह भी दी है और चीन के व्यक्तियों को बाहर देश में जाने के लिए वीजा रद्द कर दिया गया है|

एक बड़ी खबर के अनुसार चीन ने सुप्रीम कोर्ट से अपने देश के लगभग  वायरस से पीड़ित लगभग 20000 व्यक्तियों को मारने की अनुमति भी मांगी है|

इस बीमारी के कारण चीन की अर्थव्यवस्था भी डगमगा रही है|  चीन की बड़ी कंपनियों के निर्माताओं को आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ रहा है|  विदेशी कंपनियां चीन में बना सामान नहीं खरीद रही है इस वायरस के चलते उपभोक्ताओं पर दबाव है कि वह चीन के अलावा कहीं और से माल खरीदें|

नए साल की छुट्टियां बढ़ा दी गई है जिसके कारण कोई भी नया बिजनेस जल्द से शुरू नहीं हो पा रहा है|  बिजनेस में घाटा सिर्फ चीन  तक ही सीमित नहीं है बल्कि अंतरराष्ट्रीय बाजार पर भी इसका असर देखने को मिलता है|  आइए जानते हैं कि

करोनो वायरस है क्या

करोनो वायरस  एक ऐसा वायरस है जो विशेष रूप से जानवरों में पाया जाता है|  एक एक्सपर्ट के अनुसार यह वायरस मनुष्य, सूअर, मुर्गियों, कुत्तों, बिल्लियों आदि को संक्रमित करने की क्षमता रखता है|  करोनो वायरस की शुरुआत चाइना के एक छोटा शहर जिसका नाम  बुहान है से हुई मानी जाती है क्योंकि यह सी  फूड एरिया है|  यह वायरस बिल्ली, चमगादड़ आदि सभी जानवरों में प्रवेश करने की क्षमता रखता है|  यह संक्रमित वायरस है जो एक दूसरे को छूने से भी तेजी से फैल रहा है|

कैसे फैलता है यह वायरस क्या है इसके लक्षण

जब यह वायरस शरीर में प्रवेश करता है तो लगभग 10 से 12 दिन बाद इसके लक्षण दिखने शुरू हो जाते हैं| इस बीमारी के लक्षण बहुत ही आम है अगर कोई व्यक्ति वायरस से पीड़ित ना हो तब भी यह लक्षण होना आम बात है जैसे

  • सांस लेने में तकलीफ
  • सर्दी, खांसी, जुखाम लगातार बने रहना
  • गले में खराश और आवाज का भारी होना
  • हर समय नाक का बहते रहना
  • सिर में तेज दर्द
  • हर समय थकान, चिड़चिड़ापन और उल्टी जैसा महसूस होना
  • करोनो  वायरस से बचने के उपाय

करोनो  वायरस एक जानलेवा बीमारी जिसका कोई सफल इलाज नहीं है सिर्फ बचाव ही इसका एकमात्र इलाज है|  कुछ सावधानियां और सूझबूझ से हम करोनो वायरस को फैलने से रोक सकते हैं| आइए जानते हैं इस बीमारी की रोकथाम कैसे की जाए

जिन देशों में मुख्यतः चीन में ज्यादा इस बीमारी का प्रकोप है वहां की यात्रा करने के लिए कुछ दिनों तक बचे|

  • साफ सफाई पर ज्यादा ध्यान दे|
  • बिना हाथ धोए खाने की चीजों को ना छुए|
  • छींकते और खासते समय मुंह पर रूमाल रखें|
  • किसी भी व्यक्ति को छूने के बाद हाथों को अच्छी तरह से धोएं|
  • नॉनवेज खाने से दूरी बनाए रखें|
  • शुद्ध शाकाहारी भोजन ही खाएं, ज्यादा से ज्यादा फल सब्जियों का इस्तेमाल करें|
  • अपने हाथ, नाक, मुंह को बार-बार न छुए|
  • फास्ट फूड खाने से बचें ,ज्यादा से ज्यादा तरल पदार्थों का सेवन करें|
  • जहां तक हो सके पब्लिक प्लेस पर हाथ मिलाने से बचें|

करोनो  वायरस से पीड़ितों के लिए चीन का बड़ा फैसला

चीन ने करोनो  वायरस से पीड़ित मरीजों के लिए चीन के हुबेई प्रांत के वहान शहर में यह अस्पताल बना कर तैयार किया गया है| यह अस्पताल लगभग 10 से 15 दिनों में बनकर तैयार कर दिया गया और इसमें लगभग 1000 बेड है| करोनो वायरस के खौफ से प्चीन भयभीत है|

वायरस से पीड़ित मरीजों के लिए यह अस्पताल जल्दबाजी में इसलिए बनाया गया ताकि अन्य लोग वायरस के संक्रमण से बच सकें| अस्पताल में मरीजों की देखभाल के लिए 1400  डॉक्टर  की टीम तैयार की गई है हालांकि करोनो वायरस के पीड़ित मरीजों पर कोई    एंटीबायोटिक  दवाई काम नहीं करती है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *